प्रेमी शोणभद्र से धोखा खाने के बाद आजीवन कुंवारी रहने का मां नर्मदा ने लिया फैसला

मां नर्मदा :कहते हैं नर्मदा नें अपने प्रेमी शोणभद्र से धोखा खाने के बाद आजीवन कुंवारी रहने का फैसला किया।  लेकिन क्या सचमुच वह गुस्से की आग ...



मां नर्मदा:कहते हैं नर्मदा नें अपने प्रेमी शोणभद्र से धोखा खाने के बाद आजीवन कुंवारी रहने का फैसला किया। 


लेकिन क्या सचमुच वह गुस्से की आग में चिरकुवांरी बनी रही या फिर प्रेमी शोणभद्र को दंडित करने का यही बेहतर उपाय लगा कि आत्मनिर्वासन की पीड़ा को पीते हुए स्वयं पर ही आघात किया जाए। 


नर्मदा की प्रेम-कथा लोकगीतों और लोककथाओं में अलग-अलग मिलती है लेकिन हर कथा का अंत कमोबेश वही कि शोणभद्र के नर्मदा की दासी जुहिला के साथ संबंधों के चलते नर्मदा नें अपना मुंह मोड़ लिया और उल्टी दिशा में चल पड़ी। सत्य और कथ्य का मिलन देखिए कि नर्मदा नदी विपरीत दिशा में ही बहती दिखाई देती है।


कथा 1:- नर्मदा और शोण भद्र की शादी होनें वाली थी। 


विवाह मंडप में बैठने से ठीक एन वक्त पर नर्मदा को पता चला कि शोणभद्र की दिलचस्पी उसकी दासी जुहिला (यह आदिवासी नदी मंडला के पास बहती है) में अधिक है। प्रतिष्ठत कुल की नर्मदा यह अपमान सहन ना कर सकी और मंडप छोड़कर उल्टी दिशा में चली गई। 


शोण भद्र को अपनी गलती का ऐहसास हुआ तो वह भी नर्मदा के पीछे भागा यह गुहार लगाते हुए' लौट आओ नर्मदा'...।लेकिन नर्मदा को नहीं लौटना था सो वह नहीं लौटी।


अब आप कथा का भौगोलिक सत्य देखिए कि सचमुच नर्मदा भारतीय प्रायद्वीप की दो प्रमुख नदियों गंगा और गोदावरी से विपरीत दिशा में बहती है यानी पूर्व से पश्चिम की ओर। कहते हैं आज भी नर्मदा एक बिंदू विशेष से शोण भद्र से अलग होती दिखाई पड़ती है। 


कथा की फलश्रुति यह भी है कि नर्मदा को इसीलिए चिरकुंवारी नदी कहा गया है और ग्रहों के किसी विशेष मेल पर स्वयं गंगा नदी भी यहां स्नान करने आती हैं। इस नदी को गंगा से भी पवित्र माना गया है।


मत्स्यपुराण में नर्मदा की महिमा इस तरह वर्णित है, ‘कनखल क्षेत्र में गंगा पवित्र है और कुरुक्षेत्र में सरस्वती। परन्तु गांव हो चाहे वन, नर्मदा सर्वत्र पवित्र है। 


यमुना का जल एक सप्ताह में, सरस्वती का तीन दिन में, गंगाजल उसी दिन और नर्मदा का जल उसी क्षण पवित्र कर देता है।’ एक अन्य प्राचीन ग्रन्थ में सप्त सरिताओं का गुणगान इस तरह है।


गंगे च यमुने चैव गोदावरी सरस्वती।

नर्मदा सिन्धु कावेरी जलेSस्मिन सन्निधिं कुरु।।


कथा 2 :-  इस कथा में नर्मदा को रेवा नदी और शोणभद्र को सोनभद्र के नाम से जाना गया है। 


नद यानी नदी का पुरुष रूप। (ब्रह्मपुत्र भी नदी नहीं 'नद' ही कहा जाता है।) बहरहाल यह कथा बताती है कि राजकुमारी नर्मदा राजा मेखल की पुत्री थी। 


राजा मेखल नें अपनी अत्यंत रूपसी पुत्री के लिए यह तय किया कि जो राजकुमार गुलबकावली के दुर्लभ पुष्प उनकी पुत्री के लिए लाएगा वे अपनी पुत्री का विवाह उसी के साथ संपन्न करेंगे। 


राजकुमार सोनभद्र गुलबकावली के फूल ले आए अत: उनसे राजकुमारी नर्मदा का विवाह तय हुआ।


नर्मदा अब तक सोनभद्र के दर्शन ना कर सकी थी लेकिन उसके रूप, यौवन और पराक्रम की कथाएं सुनकर मन ही मन वह भी उसे चाहनें लगी। 


विवाह होने में कुछ दिन शेष थे लेकिन नर्मदा से रहा ना गया उसनें अपनी दासी जुहिला के हाथों प्रेम संदेश भेजने की सोची। जुहिला को सुझी ठिठोली। उसनें राजकुमारी से उसके वस्त्राभूषण मांगे और चल पड़ी राजकुमार से मिलने। 


सोनभद्र के पास पहुंची तो राजकुमार सोनभद्र उसे ही नर्मदा समझने की भूल कर बैठा। जुहिला की ‍नियत में भी खोट आ गया। राजकुमार के प्रणय-निवेदन को वह ठुकरा ना सकी। 


इधर नर्मदा का सब्र का बांध टूटने लगा। दासी जुहिला के आने में देरी हुई तो वह स्वयं चल पड़ी सोनभद्र से मिलनें।


वहां पहुंचने पर सोनभद्र और जुहिला को साथ देखकर वह अपमान की भीषण आग में जल उठीं। तुरंत वहां से उल्टी दिशा में चल पड़ी फिर कभी ना लौटने के लिए। 


सोनभद्र अपनी गलती पर पछताता रहा लेकिन स्वाभिमान और विद्रोह की प्रतीक बनी नर्मदा पलट कर नहीं आई।


अब इस कथा का भौगोलिक सत्य देखिए कि जैसिंहनगर के ग्राम बरहा के निकट जुहिला (इस नदी को दुषित नदी माना जाता है, पवित्र नदियों में इसे शामिल नहीं किया जाता) का सोनभद्र नद से वाम-पार्श्व में दशरथ घाट पर संगम होता है और कथा में रूठी राजकुमारी नर्मदा कुंवारी और अकेली उल्टी दिशा में बहती दिखाई देती है। 


रानी और दासी के राजवस्त्र बदलने की कथा इलाहाबाद के पूर्वी भाग में आज भी प्रचलित है।


कथा 3 :- कई हजारों वर्ष पहले की बात है। नर्मदा जी नदी बनकर जन्मीं। 


सोनभद्र नद बनकर जन्मा। दोनों के घर पास थे। दोनों अमरकंट की पहाड़ियों में घुटनों के बल चलते। चिढ़ते-चिढ़ाते। हंसते-रुठते। दोनों का बचपन खत्म हुआ। दोनों किशोर हुए। 


लगाव और बढ़ने लगा। गुफाओं, पहाड़‍ियों में ऋषि-मुनि व संतों नें डेरे डाले। चारों और यज्ञ-पूजन होने लगा। पूरे पर्वत में हवन की पवित्र समिधाओं से वातावरण सुगंधित होने लगा। 


इसी पावन माहौल में दोनों जवान हुए। उन दोनों नें कसमें खाई। जीवन भर एक-दूसरे का साथ नहीं छोड़ने की। एक-दूसरे को धोखा नहीं देने की।


एक दिन अचानक रास्ते में सोनभद्र नें सामने नर्मदा की सखी जुहिला नदी आ धमकी। 


सोलह श्रृंगार किए हुए, वन का सौन्दर्य लिए वह भी नवयुवती थी। उसनें अपनी अदाओं से सोनभद्र को भी मोह लिया। सोनभद्र अपनी बाल सखी नर्मदा को भूल गया। 


जुहिला को भी अपनी सखी के प्यार पर डोरे डालते लाज ना आई। नर्मदा नें बहुत कोशिश की सोनभद्र को समझाने की। लेकिन सोनभद्र तो जैसे जुहिला के लिए बावरा हो गया था।


नर्मदा नें किसी ऐसे ही असहनीय क्षण में निर्णय लिया कि ऐसे धोखेबाज के साथ से अच्छा है इसे छोड़कर चल देना। कहते हैं तभी से नर्मदा नें अपनी दिशा बदल ली। सोनभद्र और जुहिला नें नर्मदा को जाते देखा। सोनभद्र को दुख हुआ। बचपन की सखी उसे छोड़कर जा रही थी। उसनें पुकारा- 'न...र...म...दा...रूक जाओ, लौट आओ नर्मदा।


लेकिन नर्मदा जी नें हमेंशा कुंवारी रहने का प्रण कर लिया। युवावस्था में ही सन्यासिनी बन गई। 


रास्ते में घनघोर पहाड़ियां आईं। हरे-भरे जंगल आए। पर वह रास्ता बनाती चली गईं। कल-कल छल-छल का शोर करती बढ़ती गईं। मंडला के आदिमजनों के इलाके में पहुंचीं।


 कहते हैं आज भी नर्मदा की परिक्रमा में कहीं-कहीं नर्मदा का करूण विलाप सुनाई पड़ता है।


नर्मदा नें बंगाल सागर की यात्रा छोड़ी और अरब सागर की ओर दौड़ीं। 


भौगोलिक तथ्य देखिए कि हमारे देश की सभी बड़ी नदियां बंगाल सागर में मिलती हैं लेकिन गुस्से के कारण नर्मदा अरब सागर में समा गई।


नर्मदा की कथा जनमानस में कई रूपों में प्रचलित है लेकिन चिरकुवांरी नर्मदा का सात्विक सौन्दर्य, चारित्रिक तेज और भावनात्मक उफान नर्मदा परिक्रमा के दौरान हर संवेदनशील मन महसूस करता है। 


कहनें को वह नदी रूप में हैं लेकिन चाहे-अनचाहे भक्त-गण उनका मानवीयकरण कर ही लेते हैं। 


पौराणिक कथा और यथार्थ के भौगोलिक सत्य का सुंदर सम्मिलन उनकी इस भावना को बल प्रदान करता है और वे कह उठते हैं नमामि देवी नर्मदे...

नोट :पूरी कहानी प्रचलित कहानी, कथा व नेट से एकत्र है। क्राइम जंक्शन इसके सत्यता की पुष्टि नहीं करता है।

COMMENTS

RECENT$type=list-tab$date=0$au=0$c=10

Name

AJAB GAJAB,13,ASAM,1,Basti,8,BIHAR,150,CHATTISGARH,2,crime,3089,DELHI,91,gonda,8254,gujarat,5,HIMANCHAL,1,JAMMU-KASHMIR,2,MERI KALAM SE,94,NATIONAL,10,National news,2,PANJAB,1,POLITCAL NEWS,1867,RAJASTHAN,8,special story,1900,SPORT,252,UTTAR PRADESH,409,VIDEO,251,WEST BENGAL,3,अनुष्ठान,1,अपराध,8,अभियान,13,अभ्यास,1,आयोजन,12,आस्था,13,उत्सव,2,उद्घाटन,1,उपलब्धि,1,कार्यक्रम,6,कार्यवाई,7,कार्यशाला,2,खबरे,16129,खुलासा,2,खुशखबरी,1,खुशी,1,खेल,13,गोष्ठी,2,चयन,1,चिकित्सा,2,चेतावनी,1,जन सुनवाई,1,जयंती,7,जागरूकता,11,ज्ञापन,3,ज्योतिष,204,टीकाकरण,3,तिरंगा अभियान,1,तैयारी,1,त्योहार,2,त्यौहार,1,दान,2,दुर्घटना,2,दौरा,1,धर्म,2,निरिक्षण,2,निरीक्षण,9,परीक्षा,7,पर्व,1,पहल,1,पुरस्कार,1,प्रतियोगिता,10,प्रशासन,1,प्रशिक्षण,4,बधाई,1,बृक्षारोपण,5,बैठक,19,मांग,2,योग,4,योग दिवस,5,रक्तदान,3,राजनीति,16,रैली,5,विदाई समारोह,1,विरोध,3,विश्व बाल श्रम निषेध दिवस,1,वैक्सीनेशन,1,शिक्षक दिवस,3,शिक्षा,16,शिविर,5,शुभारंभ,1,शोध,1,शोभा यात्रा,1,श्रद्धांजली,1,संगोष्ठी,1,समस्या,2,समारोह,3,समीक्षा,1,सम्मान,10,सम्मेलन,1,संवेदना,1,सहायता,1,सुनवाई,1,सुरक्षा,3,सेवा,6,स्वास्थ्य,1,हड़ताल,1,हिन्दी दिवस,2,
ltr
item
CRIME JUNCTION: प्रेमी शोणभद्र से धोखा खाने के बाद आजीवन कुंवारी रहने का मां नर्मदा ने लिया फैसला
प्रेमी शोणभद्र से धोखा खाने के बाद आजीवन कुंवारी रहने का मां नर्मदा ने लिया फैसला
https://blogger.googleusercontent.com/img/b/R29vZ2xl/AVvXsEgLOultXag8PZqGw5eOd__ySdB-ANgym21mM-093s2IKdSGojoJATMY1jBSPtl_qa7J5mZbRXjrXP89t9a1PNGaCGkEetriGqQ9hUfAPUuVOZC0WexwJbOaKJpCTJhnDUgP3BBkyphGK0wr7diKOCFOA4FtDSHJxz7s9o-MpG-tOh2tFxw9SYAfIVCm/s320/%E0%A4%A8%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%AE%E0%A4%A6%E0%A4%BE.jpg
https://blogger.googleusercontent.com/img/b/R29vZ2xl/AVvXsEgLOultXag8PZqGw5eOd__ySdB-ANgym21mM-093s2IKdSGojoJATMY1jBSPtl_qa7J5mZbRXjrXP89t9a1PNGaCGkEetriGqQ9hUfAPUuVOZC0WexwJbOaKJpCTJhnDUgP3BBkyphGK0wr7diKOCFOA4FtDSHJxz7s9o-MpG-tOh2tFxw9SYAfIVCm/s72-c/%E0%A4%A8%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%AE%E0%A4%A6%E0%A4%BE.jpg
CRIME JUNCTION
https://www.crimejunction.com/2022/07/Nrmada.html
https://www.crimejunction.com/
http://www.crimejunction.com/
http://www.crimejunction.com/2022/07/Nrmada.html
true
7571964787955628583
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS CONTENT IS PREMIUM Please share to unlock Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy