Type Here to Get Search Results !

Bottom Ad

उप्र उद्योग व्यापार प्रतिनिधिमंडल द्वारा नगर पालिका के चुनाव के संबंध में आवश्यक बैठक सम्पन्न



वेदव्यास त्रिपाठी 

खबर प्रतापगढ़ से है जहां उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल द्वारा एक अति आवश्यक चुनावी-बैठक जिलाध्यक्ष राजेंद्र कुमार केसरवानी की अध्यक्षता में उन्ही के प्रतिष्ठान चौक बाजाजा रोड पर संपन्न हुई जिसका संचालन जिला महामंत्री संजय सोनी ने किया।


बैठक व्यापारी-हित व जन-हित को देखते हुए आगामी नगर पालिका चुनाव में पालिका-अध्यक्ष व सभासद सीटों के घोषित आरक्षण व अनारक्षण और समुचित चयन पर आपत्ति के संदर्भ में परिचर्चा हुई ।


उपरोक्त चुनावी आपत्ति के संदर्भ में वरिष्ठ उपाध्यक्ष लखन 'बाबा' ने कहा कि सन् 1947 में मिली आज़ादी के बाद से लेकर आज़ तक जिले की नगर-पालिका में अध्यक्ष पद पर सम्मानित, ईमानदार व्यवसाई के नाम पर मात्र एक बार स्व. लखन लाल चौरसिया के अतिरिक्त आज तक कोई भी दूसरा सम्मानित व्यवसायी नगर पालिका चेयरमैन नहीं हुआ। 


इसके लिए उन्होंने समस्त सम्मानित पार्टियों के संदर्भ में कहा कि सभी पार्टियां जनहित में किसी सम्मानित, सरल व ईमानदार एवं प्रतिष्ठित व्यवसायी को ही टिकट देकर अपना-अपना प्रत्याशी घोषित करें।


प्रांतीय उपाध्यक्ष रामशंकर जायसवाल  ने कहा कि जनपद का सौभाग्य है कि सांसद संगमलाल गुप्ता  एवं सदर विधायक राजेन्द्र मौर्य दोनों व्यवसाई वर्ग से ही हैं। 


इसलिए सरकार को व्यापारियों और शहरवासियों के मांग पर नगर पालिका अध्यक्ष का पद पिछड़ा वर्ग घोषित कर व्यापारी-हित में आरक्षित कर देना चाहिए। नगर युवाध्यक्ष अख़्तर राइन ने कहा कि हम उस सिस्टम का विरोध करते हैं जिसकी वज़ह से नगर पालिका अध्यक्षता सिर्फ़ और सिर्फ़ एक ही व्यक्ति की बपौती बनकर रह गई है। 


वह व्यक्ति चाहे जितना भी गोलमाल करे और जनता के बदलाव चाहने के बाद भी पैसों व वर्चस्व के बल पर बदलाव नहीं हो रहा है। जिला महामंत्री संजय सोनी ने कहा कि व्यापारी समाज देश के अर्थ व्यवस्था की रीढ़ है। 


सदियों से अनारक्षित होने के बावजूद भी यदि इस बार भी नगर पालिका चेयरमैन पद पिछड़ा वर्ग आरक्षित होकर व्यापारियो को नहीं मिला तो हमारे लिए दुख और दुर्भाग्य की बात होगी।


और हम व्यापारियों को यह समझ लेना होगा कि यह बनियों (व्यापारियों) की सरकार नहीं बल्कि बाहुबलियों की सरकार है।अंत मे जिलाध्यक्ष राजेंद्र कुमार केसरवानी ने सबके विचारों को सुनने के उपरांत कहा कि नगर पालिका चुनाव में जनता परिवर्तन की मांग चाह रही है, परन्तु सदियों से एक ही परिवार में चेयरमैन की कुर्सी अनारक्षित होने की वजह से आज तक बदलाव संभव नहीं हो पाया है।


जबकि शहर व्यवसाई वर्ग बहुल्य क्षेत्र है, यहां किसी सम्मानित व ईमानदार व्यवसाई को ही सभी पार्टियों का टिकट देना चाहिए और यह तभी संभव है जब सीट जनहित में पिछड़ा वर्ग आरक्षित होगी।


अतः व्यापार मण्डल सरकार से आपत्ति दर्ज़ कराते हुए मांग करता है कि इसे पिछड़ा वर्ग को आरक्षण देकर आरक्षित करें।अन्यथा पुनः बाहुबलियों का वर्चस्व स्थापित होगा और शहरवासी नगर-पालिका में फैले भ्रष्टाचार से प्रताड़ित होने पर मजबूर होंगे।


अतः बैठक में व्यापार मण्डल द्वारा यह निर्णय लिया गया कि सरकार नगर पालिका चेयरमैन सीट को पिछड़ा वर्ग घोषित करें, जिससे आम जनमानस को न्याय मिलने का अहसास हो।


उपरोक्त बैठक में मुख्य रूप से मुरलीधर केसरवानी, कृष्ण मोहन केसरवानी, सुरेश चंद्र केसरवानी, राहुल केसरवानी, सतीश सोनी, श्यामलाल जायसवाल, शकील अख्तर, आशीष सिंह, शारदा, अली हुसैन, प्रदीप यादव, खदान, धीरज उपाध्याय, इफ्तिखार अहमद, शिव कुमार सोनी, सरदार महेंद्र सिंह, सरदार कुलविंदर सिंह, सरदार वसिंदर सिंह, अमित सिंह, प्रवीण केसरवानी, सुनील जायसवाल, पवन कुमार आदि अन्य पदाधिकारी एवं व्यापारीगण मौजूद रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Top Post Ad



 

Below Post Ad

Bottom Ad