Type Here to Get Search Results !

Bottom Ad

BALRAMPUR...बीएमएस की बैठक में महारैली की तैयारी पर चर्चा




अखिलेश्वर तिवारी
जनपद गोंडा में भारतीय मजदूर संघ की जिला इकाई की बैठक जिला अध्यक्ष रामानंद तिवारी की अध्यक्षता में संपन्न हुई । बैठक में मुख्य अतिथि के रूप में प्रदेश संगठन मंत्री रामनिवास सिंह तथा विशिष्ट अतिथि के रूप में प्रदीप राय मौजूद रहे ।



भारतीय मजदूर संघ कार्यालय रोडवेज वस स्टाप जिला कार्यकारिणी वैठक आयोजित की गई । गोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि रामनिवास सिंह प्रान्तीय संगठन मंत्री भारतीय मजदूर संघ उत्तर प्रदेश तथा विशिष्ट अतिथि के रूप में राय प्रदीप चन्द्र प्रदेश मंत्री अवध संभाग व प्रेमसागर मिश्रा पूर्व विभाग प्रमुख अवध प्रान्त मौजूद रहे । बैठक मे जिला अध्यक्ष गोंडा रामानन्द तिवारी, जिला मंत्री अरूण भानु तिवारी एवं जिला कार्यकारिणी पदाधिकारी चद्रभान दूवे, शोभारामवर्मा, हरिश्चन्द्र पाण्डेय, संजयप्रताप सिंह, शिवमूर्ति सिंह व अरूण सिंह सहित रोडवेज, रेलवे, डाक, सुगरफैक्ट्री, स्वस्थ्य, विद्युत, आगनवाड़ी, आशासंगिनी साहित लगभग सैकड़ो संख्या में कर्मचारी व श्रमिक उपस्थित रहे ।जिलामंत्री एवं जिलाध्यक्ष के तरफ से सभी अतिथियों का अंङ्ग वस्त्र भेटकर स्वागत-अभिनन्दन किया गया ।



संगठन मंत्री का बौद्धिक मजदूर हितो में अत्यन्त सराहनीय रहा । प्रांतीय संगठन मंत्री ने 27 सितंबर की महारैली के विषय में विस्तार से जानकारी दी और कहा कि सोई हुई सरकार की आंखें खोलने के लिए रैली का आयोजन किया जा रहा है । प्रदेशमंत्री, पूर्व विभाग प्रमुख ने भी आन्दोलन के प्रति अपने विचार व्यक्त किये । सभी अतिथियो ने आगामी 27 सितम्बर को अधिक से अधिक संख्या में लखनऊ के ईको स्टेडियम में आयोजित महारैली मे पहुँचने का श्रमिको व कर्मचारियो से आवाहन किया । बैठक मे उपस्थित सदस्यो ने प्रान्तीय नेतृत्व को विश्वास दिलाते हुए यह संकल्प लिया की अन्य जिलो से सर्वाधिक संख्या मे गोण्डा से लखनऊ प्रस्थान करेगा । जिला अध्यक्ष ने कहा कि जबतक प्रदेश व केन्द्र सरकार कर्मचारियो, श्रमिको व मजदूरो के हितो लिए समुचित निर्णय नही लेगी, तबतक आन्दोलन क्रम वढ़ता रहेगा जिसकी समपूर्ण जिम्मेदारी सरकार की होगी । "जागो सरकार मजदूर आपके द्वार" नारे के साथ बड़ी संख्या में लखनऊ के लिए श्रमिक कूच करेंगे । भारतीय मजदूर संघ के नेताओं ने भाजपा सरकार पर श्रमिक विरोधी नीति अपनाने का आरोप लगाया और कहा कि बार-बार मुख्यमंत्री जी से वार्ता के बावजूद भी श्रमिकों की समस्याओं का निराकरण नहीं हो रहा है जो चिंता का विषय है । नेताओं ने कहा कि सरकार की नीतियों के कारण ही लखनऊ में महा रैली का आयोजन सुनिश्चित किया गया है, ताकि प्रदेश सरकार की मजदूरों के प्रति सोच सकारात्मक हो सके और सोया हुआ प्रशासन एक बार पुनः मजदूरों के हित में कार्य करने के लिए विबस हो । बैठक में मौजूद सभी लोगों ने एक स्वर से श्रमिकों की समस्याओं के शीघ्र निराकरण हेतु मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मांग किया ।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Top Post Ad



 

Below Post Ad

5/vgrid/खबरे