Type Here to Get Search Results !

Bottom Ad

गोंडा का यह युवक कुछ ही मिनटों में रूपयों को कर देता था दोगुना, पुलिस ने किया गिरफ्तार, पूरा मामला जानकर रह जायेंगे दंग



लखनऊ पुलिस ने गोंडा के रहने वाले युवक को नकली नोट का कारोबार करने के आरोप में नकली नोटों के साथ गिरफ्तार करने का दावा किया है।

बताया जाता है कि शातिर मुंबई में ठगी करने की कला' सीख कर लखनऊ में लोगों को ठगी के जाल में फंसाना शुरू कर दिया था. शातिर आरोपी पहले असली नोट को नकली बताकर लोगों से मार्केट में चलवाता और  जब उनको यकीन हो जाता कि नकली नोट आसानी से चलाए जा सकते हैं, तब रुपए दोगुना करने का लालच देकर उनसे मोटी रकम लेकर फरार हो जाता था। इसी कारनामे का खुलासा करते हुए सरोजनी नगर पुलिस ने जनपद गोंडा के जलालपुर बुधनी बाजार के रहने वाले अजीत मौर्या उर्फ रमेश को शहीद पथ न्यू गडौरा पुल के पास से गिरफ्तार करने का दावा किया है।

कहां से सीखा शातिराना कारनामा

दक्षिण डीसीपी विनीत जायसवाल के मुताबिक पुलिस को शिकायत मिली थी कि रुपए दो गुना करने का लालच देकर  लोगों को ठगी का शिकार बनाया जा रहा है। शिकायत के आधार पर सरोजनी नगर में पुलिस टीम बनाई गई। जिसके बाद शहीद पथ न्यू गडौरा पुल के पास से आरोपी अजीत उर्फ रमेश को गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह पहले मुंबई में रहकर पीओपी का काम करता था। जहां उसकी मुलाकात कई युवकों से हुई, जो बाद में उसके खास दोस्त बन गए.उन्ही दोस्तो से उसने ठगी करने का तरीका सीखा। पिछले करीब 10 वर्षो से वह ठगी का काम कर रहा है।

लोग कैसे हो जाते थे ठगी के शिकार

आरोपी ने पुलिस के पूछताछ में बताया कि वह लोगों को सौ सौ रुपये के असली नोट देकर उन्हें बताता था कि वह नकली नोट है। असली नोट होने की वजह से आरोपी के दिए नोट दुकानों पर चल जाते थे,यही से लोगों में लालच पैदा हो जाता था।जिसका फायदा लेते हुए आरोपी उनके ज्यादा रूपयों को डबल करने का झांसा देते हुए नकली रूपयों के गड्डी के ऊपर नीचे असली नोट लगा कर दे देता था। जब लोग गड्डी खोलने की कोशिश करते थे तो उन्हें यह कहते हुए मना करता था कि नोट नकली है, कोई देख लेगा। परेशानी पैदा हो सकती है।

पुलिस को है अभी इनकी तलाश

आरोपी ने पुलिस के पूछताछ में बताया है कि अपने दोस्त सूरज चौधरी , राजेश और दीपक गुप्ता के साथ मिलकर इस ठगी के काम को अंजाम देता था। वारदात में थाना सैरपुर के रहने वाले सूरज मुंबई से फोन के माध्यम से ग्राहकों की तलाश करता था। फिर सभी दोस्त मिलकर अपने कारनामे को अंजाम देते थे। प्रभारी निरीक्षक शैलेंद्र गिरी ने बताया कि शातिर के अन्य दोस्तों की तलाश जारी है। वे भी जल्द ही पुलिस के हिरासत में होंगे।

कहा से खुला भेद

जनपद उन्नाव के असोहा के रहने वाले धर्मेंद्र कुमार ने पुलिस को दिए गए शिकायत पत्र में कहा था कि बीते 26 नवंबर को ट्रांसपोर्ट नगर स्थित जगुआर शोरूम के पास रमेश नाम का व्यक्ति मिला जिसने रुपए दोगुना करने का झांसा देकर तीन लाख रुपये लेकर अपने साथियों के साथ स्कार्पियो पर सवार होकर भाग गया

पुलिस ने किया बरामद

पुलिस ने आरोपी के कब्जे से 12 लाख 15000 रुपए नगद स्कॉर्पियो गाड़ी,110 गड्डी सौ नंबर के कूपन नोट 30 गड्डी दो सौ के कूपन नोट छः गड्डी पांच सौ के कूपन नोट, सात गड्डी पचास के कूपन नोट और तीन एंड्रायड फोन बरामद करने का दावा किया है।


Tags

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Top Post Ad



 

Below Post Ad

Bottom Ad