Type Here to Get Search Results !

Bottom Ad

बलरामपुर:अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर कार्यक्रमों का आयोजन



अखिलेश्वर तिवारी 

 जनपद बलरामपुर मे 21 फरवरी को शहर के अग्रेंजी माध्यम विद्यालय पॉयनियर पब्लिक स्कूल एण्ड कॉलेज में ‘‘अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस‘ मनाया गया। इस अवसर पर विद्यालय के प्रबन्ध निदेशक डा0 एम0पी0 तिवारी ने विद्यालय के प्रार्थना सभा में समस्त छात्र-छात्राओं को बताया कि युनेस्को द्वारा प्रतिवर्ष 21 फरवरी 1999 को अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस मनाए जाने की घोषणा की थी। जन्म के बाद प्रथम जो भाषा का प्रयोग करते है वही हमारी मातृभाषा है। जन्म से जो हम संस्कार एवं व्यवहार पाते है वे हम इसी के द्वारा पाते है। इसी भाषा से हम अपनी संस्कृति के साथ जुड़कर उसकी धरोहर को आगे बढ़ाते है। सभी राज्यों के लागों का अपनी मात्भाषा है। भारत वर्ष में हर प्रांत की अलग संस्कृति है, एक अलग पहचान है। उनका अपना एक विशिष्ट भोजन, संगीत और लोकगीत है। इस विशिष्टता को बनाये रखना, इसे प्रोत्साहित करना ही अंरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस मनाने का उद्देश्य है। मातृभाषाओं मे ‘‘ज्ञान निर्माण‘‘ को बढ़ावा देना, अन्य भाषाओं से मातृभाषाओं में अनुवाद को प्रोत्साहित करना है और मात्भाषाओं से अन्य भाषाओं में अनुवाद को प्रोत्साहित करना है। केन्द्र और राज्य सरकारों के अधीन सभी स्कूलों, कॉलेजों, विश्वविद्यालयों और भाषा से संबधित संसाधनों को मात्भाषाओं के महत्व पर सेमिनार, कार्यशलाएं और विशेष व्याख्यान आयोजित करने के साथ-साथ छात्रों के लिए विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन करने के लिए कहा जाता है। भारत की विशाल और विविध भाषा विरासत, और सभी मातृभाषाओं को सरंक्षित और समथर्न करने के तरीके और साधन है। 


‘‘अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस‘ के अवसर पर विद्यालय में भाषण प्रतियोगिता एवं कला प्रतियोगिता में का आयोजन किया गया। जिसमें भाषण में श्रेयांस सिंह, मानिक श्रीवास्तव, तनमय श्रीवास्तव, अनय सिंह, मान्या श्रीवास्तव, कुदेशिया खान, अनन्या वर्मा, अदिती भार्गव एवं यशी पाण्डेय ने अपना-अपना विचार प्रस्तुत किया। इसी क्रम में कला के अन्तर्गत आकृति श्रीवास्तव, अलीना नसीम, मान्या श्रीवास्तव एवं अनन्या वर्मा ने अपनी-अपनी कला का प्रदर्शन किया। अंत में विद्यालय के हिन्दी प्रवक्ता त्रिलोकी नाथ शुक्ला ने अंरराष्ट्रीय मात्ृभाषा दिवस के अवसर पर अपने देश के हिन्दी मातृभाषा के बारे में पंक्तियों को कहकर विद्यार्थियों को हिन्दी मातृ भाषा के गूढ़ रहस्य है । इस अवसर पर विद्यालय के प्रबन्ध निदेशक डा0 एम0पी0 तिवारी ने बच्चों का उत्साहवर्धन किया और बताया कि आप सभी लोग अपने घर पर जाकर के अतरराष्ट्रीय मातृभाषा के बारे में विस्तृत जानकारी इंटरनेट के माध्यम से प्राप्त कर उसको लिखकर व बोलकर अपने-2 ग्रुप पर भेजें। इस अवसर पर विद्यालय के उप प्रधानाचार्य आशुतोष मिश्रा, संतोष श्रीवास्तव, शिखा पाण्डेय, अध्यापकगण राघवेन्द्र त्रिपाठी (एक्टीविटी इंचार्ज) सहित समस्त अध्यापक अध्यापिकायें उपस्थित रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Top Post Ad



 

Below Post Ad

Bottom Ad