Type Here to Get Search Results !

Bottom Ad

लालगंज :वार्ड बॉय बना डाक्टर, चिकित्सक बिना ड्यूटी के उठा रहे वेतन



विनोद कुमार 

लालगंज, प्रतापगढ़ । उपमुख्यमंत्री  एवं स्वास्थ्य मंत्री बृृजेश पाठक के द्वारा लगातार बेहतर चिकित्सा स्वास्थ्य सुविधा आमजन मानस को प्राप्त हो इसके लिए उनके द्वारा लगातार स्वास्थ्य केंद्रो का भ्रमण किया जा रहा है ।


और अव्यावास्थाओ को दूर करने के लिए आदेश दिये जा रहे हैं । किन्तु जनपद प्रतापगढ़ के चिकित्सक पूर्व समय की लापारवाही पूर्वक किये गये कार्यो से पीछा नही छुड़ा पा रहे हैं ।


प्राप्त जानकारी के अनुसार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र संग्रामगढ़ के अंतर्गत प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भटनी मे नियुक्त चिकित्सक  डॉ शब्बर हसन कभी भी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भटनी नही आते हैं । 


यहाँ पर जबसे नियुक्ति डॉ शब्बर हसन की हुए है कभी नहीं आये, हाजिरी रजिस्टर का कार्य कैसे पूर्ण करते हैं यह तो उनका स्टाफ ही बता सकता है । 


डॉ शब्बर हसन निजी प्रैक्टिस अठेहा से गौरीगंज मार्ग रुदई का पुरवा ऐंठा सेण्ठा जय हिन्द मेडिकल स्टोर पर करते हैं । 


जहाँ पर सोमवार से शनिवार निजी प्रैक्टिस किया जाता है प्रतिदिन 100 से 150 ओ पी डी और मरीज भर्ती करने की सुविधा बताया गया है । डॉ शब्बर हसन के निजी प्रैक्टिस करने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था । 


सूत्रों से प्राप्त जानकारी अनुसार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र संग्रामगढ़ के चिकित्सा अधीक्षक डॉ दिनेश सिंह ( पटेल ) की मिलीभगत से डॉ शब्बर हसन निजी प्रैक्टिस लम्बे समय से करते चले आ रहे हैं । 


स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार डॉ शब्बर हसन जनपद प्रतापगढ़ के विकास खंड सांगीपुर, रामपुर संग्रामगढ़, क्षेत्र में पिछले दस से पंद्रह वर्षो से अपने राशूख और राजनीतिक पहुँच के दम पर  उत्तर प्रदेश सरकार को चूना लगाते चले आ रहे हैं । 


डॉ शब्बर हसन का यदि कहीं बाहर स्थानांतरण हो भी जाता है तो अपने  रशूख और राजनीतिक पकड़ के दम पर  रुकवा लिया जाता है  बताया जा रहा है कि डॉ शब्बर हसन ड्रग्स माफियाओं के चंगुल में फंस चुके हैं । 


चार रुपये की कीमत की दवा लम्बे एमआरपी पर बेची जाती है ! और जिसका प्रभाव मरीज पर नगण्य होता है । ऐसे में गरीबो की जेब पर डाका डालने का कार्य किया जा रहा है । 


उक्त प्रकरण में मुख्य चिकित्सा अधिकारी प्रतापगढ़ डॉ गीरेंद्र मोहन शुक्ल से बात किया गया तो बताये कि डॉ शब्बर हसन का वेतन रोक दिया गया है । विभाग के अधिकारियों से जाँच कारायी जायेगी ।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Top Post Ad



 

Below Post Ad

Bottom Ad