Type Here to Get Search Results !

Bottom Ad

मुण्डेरवा चीनी मिल में गन्ना खरीद, ढुलाई की व्यवस्था न होने से किसान परेशान

 


समिति पदाधिकारियों ने डीएम से किया समस्याओं के निस्तारण की मांग

तीन दिनों से क्रय केन्द्रों पर गन्ना लेकर खड़े हैं किसान

 सुनील उपाध्याय

बस्ती । गुरूवार को सहकारी गन्ना विकास समिति मुण्डेरवा के निवर्तमान अध्यक्ष एवं भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश सचिव दिवान चन्द पटेल के नेतृत्व में समिति के पदाधिकारियों ने  जिलाधिकारी श्रीमती प्रियंका निरंजन से वार्ता कर मुण्डेरवा चीनी मिल में गन्ना खरीद, ढुलाई आदि की समस्याओं पर वार्ता कर निस्तारण की मांग किया।


समिति के निवर्तमान अध्यक्ष दिवान चन्द पटेल ने जिलाधिकारी को बताया कि मुण्डेरवा चीनी मिल क्षेत्र में गन्ना क्रय केन्द्रों पर पिछले तीन दिनों से गन्ना लेकर किसान खडे है किन्तु श्रमिक और ट्रान्सपोर्ट की व्यवस्था न होने के कारण गन्ने की तौल नहीं हो पा रही है। गन्ना तौल के नाम पर किसानों से 50 से 100 रूपये तक अवैध मनमानी वसूली की जा रही है। 


मिल द्वारा समानुपातिक रूप से गन्ना नहीं खरीदा जा रहा है। गेट पर गन्ने की तौल आगे है और सेन्टर पर पीछे है। सामान्य प्रजाति का गन्ना बोने वाले किसान को अभी तक कोई पर्ची जारी नहीं हुई जिससे किसान परेशान है। किसानों का गन्ना न बिकने के कारण गेहूं की बुवाई प्रभावित हो रही है।


समिति के निवर्तमान उपाध्यक्ष विश्वजीत पाल ने बताया कि जिलाधिकारी ने प्रकरण को गंभीरता से लेकर निस्तारण कराने का आश्वासन दिया है।


 बताया कि मुण्डेरवा चीनी मिल क्षेत्र में  जिस ठेकेदार को पिछली बार गन्ना ढुलाई का ठेका दिया गया था और उसके विरूद्ध एजीएम की बैठक में निन्दा प्रस्ताव पास कर कार्य न देने पर सहमति बनी थी न जाने किन परिस्थितियों में उसे पुनः 29 क्रय केन्द्रों का गन्ना ढुलाई ठेका दे दिया गया जिसका खामियाजा किसान भुगत रहे है।


 ठेकेदार द्वारा ट्रक की जगह ट्राला से गन्ने की ढुलाई कराया जा रहा है जिससे दुर्घटनाओं की आशंका बनी रहती है। प्रतिनिधिमण्डल ने डीएम से आग्रह किया कि ढुलाई, श्रमिकों की समस्या ठीक कराया जाय अन्यथा की स्थिति में गन्ना किसान आन्दोलन को बाध्य होंगे।


डीएम से मिलकर समस्याओं की जानकारी देने वाले प्रतिनिधि मण्डल में विनोद राय, फूलचन्द पटेल, राम सुरेश यादव, पंचराम चौधरी, रामफल यादव, बिन्द्रेश चौधरी, शोभाराम ठाकुर,  सुनील कुमार, चन्द्रशेखर, जगन्नाथ मौर्य आदि शामिल रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Top Post Ad



 

Below Post Ad

Bottom Ad